रविवार, 24 मई 2020

sacchi baatein जिंदगी की सच्ची बाते

sacchi baatein जिंदगी की सच्ची बाते
sacchi baatein
sacchi baatein 

''जिंदगी की सच्ची बाते''
[1]
बहुत देखा जीवन में समझदार बनकर पर,
 ख़ुशी हमेशा पागल बनने पर ही मिलती है !

[2]
लोग कहते है की वक़्त गुजर रहा है,
 पर वक्त कहता है की लोग गुजर रहे है।

[3]
जिंदगी में कभी किसी को बेकार मत समझण,
 क्योंकि बंद घड़ी भी दिन में दो बार सही समय दीखती है।

[4]
बाल सफेद करने में जिंदगी निकल जाती है 
काले तो आधे घंटे में हो जाते है !

[5]
हुनर तो सब में होता है बस फर्क सिर्फ इतना है,
 किसी का छिप जाता है किसी का छप जाता है !

[6]
कब मिल जाए किसी को मंजिल मालुम नहीं,
 इंसान के चेहरे पे उसका नसीब लिखा नहीं होता!

[7]
खुश किस्मत होते है वो शख्स 
जिसको किसी के दिल में पनाह मिलती है।

[8]
मंजिल मेरे कदमों से अभी दूर बहुत है, 
मगर तसल्ली ये है कि कदम मेरे साथ है।

[9]
रात भर चलती रहती है उँगलियाँ मोबाइल पर,
किताब सीने पे रखकर सोए हुए एक जमाना हो गया।

[10]
हजारो खुशबुए दुनिया की उस खुश्बू से छोटी है,
ज़ो भूखे को सामने पक रही रोटी से आती है।

[11]
खुदखुशी के लिए थोड़ा जहर काफी है 
मगर जिंदगी जीने के लिए काफी जहर पीना पड़ता है।

[12]
हमसफ़र कितना ही सच्चा और प्यारा क्यों न हो,
 घर से बिछड़ने का दुःख एक बेटी ही समझ सकती है।

[13]
झूट बोलते थे कितना फिर भी सच्चे थे हम,
 ये उन दिनों की बात है जब बच्चे थे हम।

[14]
खुदखुशी के लिए थोड़ा जहर काफी है 
मगर जिंदगी जीने के लिए काफी जहर पीना पड़ता है।

[15]
माँ बाप की दुआ की के आगे तो तकदीर भी लाचार हो जाती है।

[16]
उसके दुश्मन बहुत है!
 मतलब आदमी अच्छा ही होगा !!

[17]
कुछ इस तरह मैंने जिंदगी को आसान कर लिया, 
किसी से माफ़ी मांग ली तो किसी को माफ़ कर दिया।

[18]
वक्त सबको मिलता है जिंदगी बदलने के लिए, 
पर जिंदगी नहीं मिलती है वक़्त बदलने के लिये।

[19]
इज्जत इंसान की नहीं जरुरत की होती है, 
जरुरत ख़तम तो इज्जत ख़तम!

[20]
बस इतनी सी बात समंदर को खल गई 
एक कागज की नाव मुझ पे कैसे चल गई !

[21]
जिंदगी की हकीकत को बस इतना जाना है,
रोना अकेले ही है और हसने में साथ जमाना है !

[22]
लोग कहते है दुःख बुरा होता है जब भी आता है रुलाता है,
 हम कहते है दुःख अच्छा होता है जब भी आता है कुछ नया सीखा जाता है!

[23]
कौन कहता है मुसाफिर जख्मी नही होते रास्ते गवाह है 
कमबख्त गवाही नहीं देते।

[24]
हर ख्वाब के मुकद्दर में हकीकत नहीं होती!
 कुछ ख्वाब जिंदगी में महज ख्वाब ही रह जाते है !!

[25]
तजुर्बा इंसान को गलत फैसलों से बचाता है
लेकिन तजुर्बा भी गलत फैसलों से आता है !

[26]
ये दबदबा ये हुकूमत ये नशा और ये दौलत,
 सब किराये दार है घर बदलते रहते है।

[27]
कुछ लोग बहोत दूर रहकर भी दिलो के पास होते है !

[28]
ये साली जिंदगी भी दोस्तों की बीअर और 
गर्लफ्रेंड की टेडी बियर पर खर्च हुई जा रही है।

[29]
बड़ी इबादत से पूछा था मैंने खुदा से जन्नत का पता तो खुदा ने,
 अपनी गोद से उतारकर माँ की बाहों में सुला दिया।

[30]
इस दुनिया की सच्चाई यह है की यहाँ सुनता नहीं फ़रियाद कोई किसी की,
 यहाँ हसते  है लोग तभी जब होता है बर्बाद कोइ।

''sacchi baatein जिंदगी की सच्ची बाते''

[31]
मिट्टी भी जमा की और खिलौने भी बना के देखा पर जिंदगी 
कभी न मुस्कुराई फिर से बचपन की तरह !

[32]
असल में वही जीवन की चाल समझता है 
जो सफर की धुल को गुलाल समझता है।

[33]
कमा के इतनी दौलत भी मैं अपनी माँ को ना दे पाया कुछ भी,
 की जितने सिक्के से माँ मेरी नजर उतारकर फेंक दिया करती थी

Thanks for visiting..

शनिवार, 18 अप्रैल 2020

sachi bate pic in hindi सच्ची बाते with फोटो

आज हम आपके साथ share करने जा रहे है Sachi bate pic in hindi सच्ची बाते with फोटो। 

[1]
sachi bate pic in hindi
'' सच्ची बाते ''

एक सबेरा था जब हँसकर उठते थे हम 
और आज कई बार बिना मुस्कुराये ही शाम हो जाती है। 

[2]
बदलते तो इंसान है 
वक्त तो एक बहाना है। 

[3]
बड़े अनमोल है ये खून के रिश्ते,इनको तू बेकार न कर,
मेरा हिस्सा भी तू लेले मेरे भाई घर के अगन में दिवार न कर। 

[4]
जिंदगी अपने हिसाब से जीना चाहिए,
औरो के कहने पर तो सर्कस में शेर भी नाचता है।

[5]
न किस्सों  से और न किश्तों से,
ये जिंदगी बनती है कुछ रिश्तो से।

[6]
इससे बड़ी democracy क्या होगी,
अपने देश में ज्यादातर सरकारी अफसर 
खुद को प्रधानमंत्री समझते है।

[7]
वास्तविकता मेरे जीवन को बर्बाद करते जा रही है।

[8]
जरा सी आहट से वो जाग जाता है रातो में,
खुदा अगर बेटी दे गरीब को तो दरवाजा भी दे।

[9]
जिंदगी में दो शब्द कहने में काफी मुश्किल होता है।,
पहली बात किसी अजनबी से हेलो और आखरी बार किसी अपने से अलबिदा।

[10]
मेरा दर्द किसी के हसने की वजह जरुर बन सकता है,
लेकिन मेरी हंसी  किसी के दर्द की वजह नहीं बननी चाहिए।

[11]
ये जो नरम दिल लोग होते है ना 
ये लोग गुस्से में भी रोने लगते है। 

[12]
दुनिया में सब मतलबी होते है कोई किसी का नहीं होता है।

[13]
-जिम्मेदारियां मजबूर कर देती है अपना गाव छोड़ने को,
वरना कौन अपनी गली में जीना नहीं चाहता।

[14]
sachi bate pic in hindi
जिंदगी एक बार ही सही लेकिन ऐसे शक्श से जरुर मिलवाती है, 
जिसके साथ हम अपना सबकुछ बाँट लेना चाहते है।

[15]
कोई लक्ष्य मनुष्य के साहस से बड़ा नहीं,
हारा वही जो दिल से लड़ा नहीं।

[16]
गाव में छोड़ आये हजार गज की बुजुर्गो की हवेली,
वो शहर में सौ गज में रहने को खुद की तरक्की कहते है।

[17]
चेहरा बता रहा था की मारा है भूख ने,
और लोग कह रहे थे की कुछ खा के मारा है।

[18]
सफ़र जिंदगी का बहुत ही हसीन है,
सभी को किसी न किसी की तलाश है,
किसी के पास मंजिल है तो राह नहीं,
और जिसके पास राह है तो मंजिल नहीं।

[19]
पहचान कफ़न से नहीं होती है दोस्तों,
लाश के पीछे काफिला बयाँ कर देता है
 की रुतवा किस हस्ती का है।

[20]
धुएं की तरह उड़ना सीखिए
 जलना तो लोग भी सीख जाते है।

[21]
वक्त बड़ा अजीब होता है,इसके साथ चलो तो किस्मत बदल देता है, 
और न चलो तो किस्मत को ही बदल देता है।

[22]
ए उम्र कुछ कहा मैंने पर शायद तूने सुना नहीं,
तू छीन सकती है बचपन मेरा पर बचपना नहीं।

[23]
सच सुनने से ना जाने क्यों कतराते है लोग,
तारीफ चाहे झूठी हो सुनकर खूब मुस्कुराते है लोग।

[24]
पर क्या लगे की घोंसले से उड़ गए सभी,
माँ फिर अकेली रह गयी बच्चे को पाल कर।

[25]
जिंदगी सभी के लिए वही है, फर्क शिर्फ़ इतना है कोई दिल से जी रहा है 
और कोई दिल रखने के लिए जी रहा है।  

[26]
कान के कच्चे कुछ लोग 
अपनी उन गलतियों के लिए नाराज रहते है,
जो आपने कभी की ही नहीं। 

[27]
जिंदगी लोगो से प्रेम करने, उनकी सेवा करने, 
उन्हें सशक्त बनाने 
और उन्हें प्रोत्साहित करने का नाम है। 

[28]
दो पल की जिंदगी है इन्हें जीने के शिर्फ़ दो उसूल बना लो, 
रहो तो फूलो की तरह और बिखरो तो खुशबू की तरह।

[29]
मीठी बाते ना कर ये नादान परिंदे,
इंसान सुन लेगा तो पिंजरा ले आएगा।  

[30]
इंसानों की बस्ती में रहता हु साहेब,
कौन कहता है की मै खतरों का खिलाडी नहीं। 

[31]
हम जो मिल जाते है आसानी से,
लोग समझते है की बेकार है हम।  

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

sachi bate shayari सच्ची बाते जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते शायरी

sachi bate shayari सच्ची बाते जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते शायरी 

[1]
sachi bate shayari

इस जहाँ में कब किसी का दर्द अपनाते है लोग,
रुख हवा का देख कर अक्सर बदल जाते है लोग।

[2]
किसी को मकान किसी के हिस्से में दुकान आई, 
घर में सबसे छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई।

[3]
दोस्ती और दुश्मनी मजेदार है,
 बस निभाने का दम होना चाहिए।

[4]
कौन कहता है की छेद आसमा में हो नहीं सकता,
इक पत्थर तो तबियत से उछालो यारो।

[5]
दिल में  अरमान बहुत है सजाऊं कैसे, तेरी याद बहुत आये, भुलाऊँ कैसे।

[6]
रास्ते को भी दे दोष और आंखे भी कल लाल,
 चप्पल में जो कील है, पहले उसे निकाल।

[7]
सहारा लेना ही पड़ता है मुझको दरिया का मै 
इक कतरा हु तन्हा हो बह नहीं सकता।

[8]
जनम मरण का साथ था जिनका, उन्हें भी हमसे बैर, 
वापिस ले चल बस तो हमें, हो गई जग से बैर।

[9]
मैंने कहा कभी सपनो में भी शक्ल न मुझको दिखाई, 
उसने कहा, मुझ बिन भला तुझको नींद ही कैसे आई।

[10]
उसको रुखसद तो किया था, मुझे मालूम न था,
 सारा घर ले गया, छोड़ के जाने वाला।

[11]
सर पर चढ़ कर बोल रहे है,
 पौधे जैसे लोग पेड़ बने खामोश खड़े है कैसे कैसे लोग।

[12]
कौन कहता है की अल्फाज बेजुबान होते है, 
चुभ जाए गर तो उम्र भर दर्द देते है।

[13]
नमक की तरह हो गई है जिन्दगी, 
लोग स्वादानुसार इस्तेमाल कर लेते है।

[14]
यहाँ मजबूत से मजबूत लोहा टूट जाता है, 
कई झूठे इकट्ठे हो तो सच्चा टूट जाता है।

[15]
चेहरे अजनबी हो भी जाए तो कोई बात नहीं, 
रवैये अजनबी हो जाए तो बड़ी तकलीफ देते है।

[16]
कोई इसके साथ है, कोई उसके साथ है,
 देखना ये है, मैदान किसके साथ है।

[17]
मेहेरबान होकर बुला लो मुझे जिस वक्त 
मै गया वक्त नहीं कि फिर आ भी ना सकू।

[18]
ख़त पे ख़त हमने भेजे पर जवाब आता नहीं, 
कौन सी एसी खता हुयी मुझको याद आता नहीं।

[19]
फिर उड़ गई नींद ये सोच कर कि 
 सरहद पर बहा वो खून मेरी नींद के लिए था। 

[20]
इश्क़ कर लीजिये बहोत इन किताबों से एक यही है 
जो अपनी बातों से पलटा नहीं करती है। 

[21]
आप जिसपर आंख बंद करके भरोसा करते है 
अक्सर वही आप कि आंखे खोल जाता है !

[22]
कभी कभी जिंदगी इस कदर तन्हा बना देती है कि हमे जिंदगी से 
प्यारी मौत लगने लगती है। 

[23]
फिर से मुझे मिट्टी मे खेलने दे ए जिंदगी 
ये साफ सुथरी जिंदगी उस मिट्टी से ज्यादा साफ गंदी है। 

[24]
गलत लोग सभी के जीवन मे आते है लेकिन सीख हमेशा सही देकर जाते है। 

[25]
मै किसी से बेहतर करू, क्या फर्क पड़ता है!
मै किसी का बेहतर करू बहुत फर्क पड़ता है। 

[26]
दिलो मे खोट है और जुबा से प्यार करते है,
बहुत से लोग दुनिया मे यही व्यापार करते है। 

[27]
कोई हालात नहीं समझता तो कोई जज़्बात नहीं समझता,
ये अपनी अपनी समझ कि बात है कोई कोरा कागज भी पढ़ लेता है तो कोई 
पूरा किताब नहीं समझता। 

[28]
जीवन का सबसे बड़ा उपयोग 
इसे किसी एसे चीज मे लगाने मे है जो इसके बाद भी रहे। 

[29]
थोड़ी सजा उन्हे भी दे देती ये जिंदगी 
जिनकी वजह से गरीब लोग सड्को पर सोते है।

[30]
जिंदगी मे ब्रांडेड चीजे ही इस्तेमाल करने वाले 
एक बात याद रखना कि कफन का कोई ब्रांड नहीं होता।

[31]
'' sachi bate shayari ''
sachi bate shayari

करीब इतना रहो कि रिश्तो में प्यार रहे, दूर भी इतना रहो कि आने का इन्तजार रहे, 
रखो उम्मीद रिश्तो के दरमियान इतनी, कि टूट जाए उम्मीद मगर रिश्ते बरक़रार रहे।

sachi bate shayari सच्ची बाते जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते शायरी 

zindagi ki sachi bate जिंदगी की सच्ची बाते

zindagi ki sachi bate जिंदगी की सच्ची बाते -
[1]
जिंदगी जरा मुस्कुरा, एक सेल्फी लेनी है तेरे साथ।

[2]
zindagi ki sachi bate

वही सबसे तेज चलता है, 
जो अकेला चलता है।

[3]
जिंदगी में कुछ लोग ऐसे भी होते है, 
जो वादा नहीं करते लेकिन निभाते बहुत है।

[4]
आइना कब किसको सच बता पाया है, 
जब देखा दाया तो बाया ही नजर आया है।

[5]
बचपन की सबसे बड़ी ग़लतफ़हमी यही थी यारो 
की बड़े होते ही जिंदगी बड़ी मजेदार हो जाएगी।

[6]
एक हमसफ़र वो होता है जो पूरी जिंदगी साथ निभाए, 
और एक हमसफ़र वो जो चंद लम्हों में पूरी जिंदगी दे जाए।

[7]
छु ले आसमान जमीन की तलाश न कर, जी ले जिंदगी 
ख़ुशी की तलाश न कर, तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त, 
मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश न कर,

[8]
इंसान ख्वाहिशो से बंधा हुआ एक जिद्दी परिंदा है, 
जो उम्मीदों से ही घायल है और उम्मीदों पर ही जिन्दा है।

[9]
क्या किस्मत पाई है रोटियों ने भी निवाला बनकर, 
रहीसो ने आधी फेक दी और गरीबो ने आधी में जिंदगी गुजार दी।

[10]
जिसने जीवन में संघर्ष नहीं किया उसका जीवन व्यर्थ है।

[11]
हकीकत जिंदगी की ठीक से जब जान जाओगे 
ख़ुशी से रो पड़ोगे और गमो में मुस्कुराओगे।

[12]
जिंदगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ, 
मगर किसी के प्रेम और विश्वाश का नहीं।

[13]
बहुत अच्छा लगता है ना, 
जब कोई हमारी वजह से खुश होता है।

[14]
छुपे छुपे से रहते है सरेआम नहीं हुआ करते, 
कुछ रिश्ते का बस एहसास होता है, उनके नाम नहीं हुआ करते।

[15]
धोका खाने वाले को तो एक दिन सुकून मिल ही जाता है, 
लेकिन धोका देने वाले को कभी सुकून नहीं मिलता।

[16]
इतने भी नजदीक न जाओ किसी के की 
उसके जाने से जिंदगी सजा बन जाए।

[17]
अक्सर वही लोग उठाते है हम पर उंगलिया 
जिनकी हमें छूने की औकात नहीं होती।

[18]
कुछ इस तरह फ़क़ीर ने जिंदगी की मिसाल 
दी मुट्ठी में धुल ली और हवा में उछाल दी।

[19]
बहुत दूर तक जाना पड़ता है, शिर्फ़ यह 
जानने के लिए की नजदीक कौन है।

[20]
पैसे वाले का आधे से ज्यादा पैसा तो यह दिखाने 
में चला जाता है की वह पैसे वाले है।

[21]
समझदार वह व्यक्ति नहीं जो ईंट का जवाब पत्थर से दे,
 समझदार वह है जो फेकी हुई ईंट से अपना घर बना ले।

[22]
जिंदगी की परीक्षा में कोई अंक नहीं होते, 
कोई आपको दिल से याद करे तो समझ लो पास हो गए।

[23]
कुछ लोग ऐसे होते है जिनका मूड ख़राब हो तो भी 
अपनी ख़ुशी के लिए कुछ भी कर सकते है।

[24]
अपनी जबान से किसी की बुराई मत  करो क्युकी बुराइया तुममे भी है 
और जुबान दुसरो के पास भी है।

[25]
वो कभी वापस नहीं आएगी यही वो चीज है जो जिंदगी को इतना मधुर बनाती है। 

[26]
हंश मरते हुये भी गाता है और मोर नाचते हुये भी रोता है,
ये जिंदगी का वशूल है मेरे दोस्त कि 
दुखो वाली रात नींद नहीं आती और खुशी मे कौन सोता है। 

[27]
जिंदगी देने वाले मारता छोड़ गए अपनापन जताने वाले तन्हा छोड़ गए 
जेब पड़ी जरूरत हमे अपने हमसफर की,
वो जो साथ चलने वाले रास्ते मोड गए। 

[28]
वक्त सबको मिलता है जिंदगी बदलने के लिए 
पर जिंदगी दोबारा नहीं मिलती वक्त बदलने के लिए। 

[29]
मन मे जो है वो साफ साफ कह दो फैसला 
फासने से बेहतर होता है। 

[30]
जिसके लफ्जो से हमे अक्ल मिलती है, 
बड़े निसोबों से एस कोई शक्स मिलता है। 

[31]
मंजिलों से गुमराह भी कर देते है कुछ लोग हर किसी से रास्ता पूछना 
हर किसी से रास्ता पूछना अच्छा नहीं लगता।

[32]
अकेले रहने का भी एक अलग सुकून है 
ना किसी की वापस आने की उम्मीद और ना किसी के छोड़ जाने का डर।

[33]
खुदा करे हर किसी को  कोई एसा अपना मिले
जो उसे कभी किसी भी हाल मे रोने ना दे। 

sachi bate in hindi जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते

sachi bate in hindi जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते!

[1]
sachi bate in hindi
कुछ तो बात है मेरे देश की मिट्टी में ग़ालिब, 
सरहदे तोड़ कर आते है आतंकी भी यहाँ दफ़न होने के लिए।

[2]
हो चुकी मुलाकात अभी सलाम बाकि है तुम्हारे नाम की दो घूंट शराब बाकि है,
 तुमको मुबारक हो खुशियों का शामयाना मेरे नसीब में अभी दो गज जमीन बाकि है।

[3]
उनसे कहना की किस्मत पे इतना नाज ना करे, 
हमने बारिश में भी जलते हुए माकन देखे है।

[4]
दौड़ने दो खुले मैदान में नन्हे कदमो को साहब, 
जिंदगी बहुत भागती है बचपन गुजर जाने के बाद

[5]
ख्वाहिशे मेरी अधूरी ही सही पर कोशिशे मै पूरी करता हु।

[6]
मैंने कुछ ऐसे भी गरीब देखे है,
 जिनके पास पैसे के सिवा और कुछ भी नहीं है।

[7]
sachi bate in hindi
खुबसूरत सा वो पल, था लेकिन वो कल था।

[8]
बेटा तब तक अपना है जब तक उसे पत्नी नहीं मिल जाती, 
बेटी तब तक अपनी है जब तक जिंदगी खत्म नहीं हो जाती है।

[9]
मिली थी जिंदगी किसी के काम आने के लिए,
 पर वक्त बीत रहा है कागज के टुकड़े कमाने के लिए।

[10]
मैने पूछा अपने खुदा से क्यों मेरी दुआ उसी वक्त नहीं सुनता,
 तो खुदा ने मुस्कुरा कर कहा, मै तो तेरे गुनाहों की सजा भी उसी वक्त नहीं देता।

[11]
जिंदगी को आसन नहीं खुद को मजबूत बनाना पड़ता है, 
उत्तम समय कभी नहीं आता समय को उत्तम बनाना पड़ता है।

[12]
उम्मीद झूटी ही सही, 
जिंदगी तो गुजरती है।

[13]
अब कटेगी जिंदगी सुकून से, 
अब हम भी मतलबी हो गए है।

[14]
दिल में बने रहना ही सच्ची शोहरत है, 
वरना मशहूर तो क़त्ल करके भी हुआ जा सकता है।

[15]
मुस्कुराहटे झूठी भी हुआ करती है, 
देखना नहीं समझना सिखों।

[16]
मेरे अपने कही कम न हो जाए इसीलिए हमने मुसीबत में 
भी किसी अपने को आजमाया नहीं।

[17]
जिंदगी जला दी हमने जब जैसी जलानी थी,
अब धुए पर तमाशा कैसा और राख पर बहस कैसी।

[18]
चलो अब जंगल को चलते है क्योकि सारे जानवर शहर मे रहते है।

[19]
गलत लोग सभी के जीवन मे आते है 
लेकिन सीख हमेशा सही ही देकर जाते है।

[20]
आत्मज्ञान, आत्मसम्मान और आत्मसंयम ये तीनों ही जीवन को 
परम सम्पन्न बनाते है।

[21]
ये जिंदगी तोड़कर हमको एसे बिखेरो इस बार,
ना फिर से टूट पाये हम और न फिर से जुड़ पाओ तुम।

[22]
जो दोगे वही लौटकर वापस आएगा चाहे वो इज्जत हो या धोखा।

[23]
हमे क्या पता था जिंदगी इतनी अनमोल है,
कफन ओढ़ कर देखा तो नफरत करने वाले भी रो रहे थे।

[24]
बहुत दूर है तुमसे पर दिल तुम्हारे पास है जिस्म पड़ा है यहाँ पर रूह तुम्हारे पास है,
जन्मदिन है तुम्हारा पर जश्न हमारे पास है,
जुड़ा है एक दूसरे से हम पर फिर भी तुम हमारे पास हो और हम तुम्हारे पास है।

[25]
जिंदगी एक सफर है आराम से चकते चलो,
उतार चढ़ाव तो आते रहेगे।

[26]
मुझसे नाराज है तो छोड़ दे मुझको ए जिंदगी,
मुझे रोज रोज तमाशा न बनाया कर।

[27]
जिनसे मिलते ही दिल को खुशी मिल जाती है,
वो लोग क्यो जिंदगी मे कम ही मिला करते है।

[28]
बुराई इसलिए नहीं बढ़ती क्यो की बुरे लोग बढ़ गए है,
बुराई इसलिए बढ़ती है की बुराई को सहन करने वाले लोग बढ़ गए है।

[29]
जिस जीवन कि समीक्षा व परख न कि गई हो,
 वह जीने योग्य ही नहीं है।

[30]
होने दो मेरी जिंदगी का तमाशा,
क्यो कि मैंने भी बहुत तालिया बजायी थी सर्कस मे, शेर के नाचने पर।

[31]
इंसान कि फितरत को समझते है ये परिंदे,
कितनी भी मुहब्बत से बुलाना मगर पास नहीं आएगे।

जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते

kuch sachi bate जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते

kuch sachi bate जिंदगी की कुछ सच्ची और अच्छी बाते

[1]
kuch sachi bate
सही समय का इन्तजार करते करते जिंदगी निकल जाएगी, 
अच्छा होगा की समय को सही बनाने की कोशिश करे।

[2]
kuch sachi bate

दोनों ही सफ़र थकन भरे लम्बे और बोझिल हो जाते है,
 अगर यात्रा में सामान और जिंदगी से ख्वाहिशे अधिक हो तो।

[3]
कुछ लोगो को लगता है की उनकी चालाकियां मुझे समझ में नहीं आती 
मै बड़ा खामोश होकर देखता हु उनको अपनी नजरो से गिरते हुए।

[4]
मौत का आलम देख कर तो जमीन भी दो गज जगह दे देती है ,
 फिर यह इंसान क्या चीज है जो जिन्दा रहने पर भी दिल में जगह नहीं देता।

[5]
मै जब किसी गरीब को हँसते हुए देखता हु तो , 
यकीन आ जाता है की खुशियों का ताल्लुक दौलत से नहीं है।

[6]
ये जो छोटे होते है दुकानों, होटलों और वर्कशॉप 
पर दरअसल ये बच्चे अपने घर के बड़े होते है।

[7]
किसी ने क्या खूब कहा है अकड़ तो सब में होती है झुकता वही है,
झुकता वही है जिसे रिश्ते की फ़िक्र होती है।

[8]
जहाँ प्रेम है वहां जीवन है।

[9]
दिल लगाने से अच्छा है कुछ पौधे लगाये, 
वो घाव नहीं कम से कम छाया तो देगे।

[10]
जो मागू वो दे दिया कर ये जिंदगी, 
तू बस मेरी माँ की तरह बन जा।

[11]
दिल में जीने का जज्बा चाहिए, 
खुशियाँ उम्र की मोहताज नहीं होती।

[12]
सलीका हो अगर भीगी हुई आँखों को पढने का तो फिर 
बहते हुए आसू भी अक्सर बात करते है।

[13]
जिंदगी देती नहीं सबको सुनहरे मौके तुझको 
अंगूठी मिली है तो नगीना बन जा।

[14]
कभी उस शक्श पर शक मत करो जो तुम 
पर खुद से ज्यादा भरोसा करता हो।

[15]
ये चालाकियां कहा मिलती है कोई बताओ यारो, 
हर कोई ठग लेता है जरा सा मीठा बोल कर।

[16]
शाम सुरज को ढलना सिखाती है, शम्मा परवाने को जलना सिखाती है; 
गिरने वाले को तकलीफ तो होती है मगर, ठोकर इंसान को चलना सिखाती है।

[17]
चलिए जिंदगी का जश्न कुछ इस तरह मानते है, 
कुछ अच्छा याद रखते है और कुछ बुरा भूल जाते है।

[18]
उड़ने दो इन परिंदों को आजाद फिजाओ में, 
अपने होगे तो लौट आयेगे किसी दिन।

[19]
नखरे तो शिर्फ़ माँ बाप उठाते है, 
लोग तो बस उंगलिया उठाते है।

[20]
जीवन न तो भविष्य में है और ना ही अतीत में है जीवन तो
 केवल इस पल में है इसी पल का अनुभव ही जीवन है।

[21]
गम न करना कभी जिंदगी में, तकदीर बदलती रहती है, 
शीशा वही रहता है बस तस्वीर बदलती रहती है।

[22]
ज़िन्दगी मै भी मुसाफिर हु तेरी कश्ती का,
 तू जहा मुझसे कहेगी मै उतर जाऊँगा।

[23]
अंजाम तो मालूम है हर एक को अपना फिर भी, 
अपनी नजरो में हर इंसान सिकंदर बना हुआ है।

[24]
उस माँ को भी रोटी के लाले है, 
जिसके बेटे चार कमाने वाले है।

[25]
जिंदगी उसके लिए मत गुजारो जिसके लिए तुम जिंदा हो,
बल्कि उसके लिए गुजारो जो तुम्हारी वजह से जिंदा है। 

[26]
काँटों पर गुजार देते है सारी जिंदगी 
कौन कहता है कि फूलो को कोई गम नहीं होता।

[27]
हर आदमी अपनी जिंदगी मे हीरो होता है 
बस कुछ लोग कि फिल्मे relese नहीं होती।

[28]
जिंदगी किसी के लिए नहीं रुकती है बस जीने कि वजह बादल जाती है। 

[29]
काश मै लौट जाऊ बचपन कि उस गलियो मे 
जहां ना कोई जरूरत थी और ना कोई जरूरी था। 

[30]
यूं तो मै दुश्मनों के काफिलो से भी सर उठा कर के गुजर जाता हूँ 
बस खौफ तो आफ्नो कि गलियों से गुजरने मे लगता है कि कोई धोखा ना दे दे। 

[31]
सलीका हो अगर दर्द को महसूस करने का 
तो किसी की खामोशी भी अक्सर बात करती है।  

सोमवार, 6 अप्रैल 2020

सच्ची बाते हिंदी में sachi bate in hindi

सच्ची बाते हिंदी में  sachi bate in hindi
[1]
sachi bate in hindi
दुआ सलाम भी लोग हैसियत देख के करते है, 
अपनी हैसियत का अंदाजा रोज हो जाता है।

[2]
शख्सियत अच्छी होगी तभी दुश्मन बनेगे, 
वरना बुरे की तरफ देखता कौन है।

[3]
शिर्फ़ एक शक्श नहीं मरता खुदखुशी से, 
पूरा परिवार जिन्दा लाश बन जाता है।

[4]
भूलकर भी अपने दिल की बात किसी से मत करना, 
यहाँ कागज भी जरा सी देर में अखबार बन जाता है।

[5]
''सच्ची बाते ''
सच्चे रिश्तो की खूबसूरती एक दूसरे की गलतियों को बर्दास्त करने में है, 
क्यों की बिना कमी का इंसान तलाश करोगे तो अकेले ही रह जाओगे।

[6]
बड़ी अजीब होती है ये मौत भी, कभी कभी ये वहां होती है, 
जहाँ लोग जिंदगी की दुआ मागने जाते है।

[7]
मुफ्त में शिर्फ़ माँ बाप का प्यार मिलता है, 
इसके बाद दुनिया मे हर रिश्ते के लिए कुछ न कुछ चुकाना पड़ता है।

[8]
गरीबो से करीब का रिश्ता भी छुपाते है लोग और 
अमीरों से दूर का रिश्ता भी बढ़ा चढ़ा कर बताते है लोग।

[9]
बिखरने दो होठो पे हसी की फुहार को, 
प्यार से बात कर लेने से दौलत कम नहीं होती।

[10]
दुनिया बर्थडे केक की तरह है, 
अपना हिस्सा ले लेकिन बड़ा हिस्सा छोड़ दे।

[11]
कुछ इसलिए भी पसंद आते है सच बोलने वाले लोग, 
क्युकी वो खुद टूट जाते है पर किसीका दिल टूटने नहीं देते।

[12]
मुस्कुराने के मकसद न ढूढ़ वर्ना जिंदगी यूही कट जाएगी, 
कभी बेवजह भी मुस्कुरा के देख तेरे साथ जिंदगी भी मुस्कुराएगी।

[13]
कहते है की वक्त सारे घाव भर देता है, 
पर सच तो ये है की हम दर्द के साथ जीना सीख जाते है।

[14]
कुछ हसरते अधूरी ही रह जाए तो अच्छा है, 
पूरी हो जाने पर दिल खाली सा हो जाता है।

[15]
भरे बाजार से अक्सर खाली हाथ ही लौट आता हूँ 
क्यों कि पहले पैसे नहीं थे और अब ख्वाहिशे  नहीं रहीं। 

[16]
किसी दिन प्यास के बारे मे उससे पूछिये 
जिसकी बाल्टी कुए मे रह जाती है और रस्सी टूट जाती है। 

[17]
अपनी उम्र और पैसो पर कभी भी घमंड मत करना,
 क्यों कि जो चीजे गिनी जा सके वो यकीनन खत्म हो जाती है। 

[18]
किसकी समझूँ कीमत ये खुदा इस जहां मे 
तू मिट्टी से इंसान बनाते हो और इंसान मिट्टी से तुझे। 

[19]
दुनियाँ का उसूल है कि जब तक काम है 
तब तक नाम है वरना दूर से ही सलाम है। 

[20]
आपका जीवन महान हो इसके लिए 
आपका विश्वाशआपके भय से बड़ा होना चाहिए। 

[21]
जितना मैंने सोचा था जिंदगी उससे कहीं छोटी है। 

[22]
मेरे अच्छे वक्त ने दुनिया को बताया कि मै कैसा हूँ 
और मेरे बुरे वक्त ने मुझे बताया कि दुनिया कैसी है। 

[23]
ना फिक्र कर की जमाना क्या सोचेगा 
जमाने को अपनी ही फिक्र से फुर्सत कहाँ है। 

[24]
कुछ एसे हादसे भी होते है जिंदगी मे 
इंसान बच जाता है मगर जिंदा नहीं रहता है। 

[25]
नफ़रतों के बाजार मे जीने का अलग ही मजा है लोग 
रुलाना नहीं छोड़ते और ज़िंदादिल हसाना नहीं छोड़ते। 

[26]
कहीं बिखरी हुई बाते कहीं टूटा हुआ वादा, 
ए जिंदगी बता क्या है तेरा किस्सा और क्या है तेरा इरादा। 

[27]
कोई भी माँ बाप बेटी की पैदाइश से नहीं डरते 
अगर वो डरते है तो बस बेटी के नसीब से । 

[28]
रिश्तों की डोर कमजोर तब होती है 
जब इंसान गलतफहमी मे,पैदा होने वाले सवालो का जावाब भी खुद ही बना लता है। 

[29]
किसी की तलाश मे मत निकलो क्योकि लोग खो नहीं बादल जाते है। 

[30]
बचपन मे जब धागो के बीच माचिस को फसाकर फोन फोन खेलते थे,
तब मालूम नहीं था एक दिन इस फोन मे जिंदगी सिमट चली जाएगी। 

[31]
जिंदगी को इतना सीरियश लेनेकी कोई जरूरत नहीं है यारो 
यहाँ से जिंदा बचकर कोई नहीं जाएगा ।